14 नवंबर से श्रीलंका लीग का होना तय; 150 इंटरनेशनल खिलाड़ी हुए शामिल!

14  नवंबर से श्रीलंका लीग का होना तय; 150  इंटरनेशनल खिलाड़ी हुए शामिल!

काफी अटकलों के बीच  आज श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने एलपीएल के पहले सीजन की घोषणा कर दी है।  पहले श्रीलंकन लीग अगस्त में होनी थी , परन्तु कोरोना महामारी की वजह से तारीख स्थगित कर दी गयी।  हालाँकि बोर्ड ने किसी विशेष तारीख की घोषणा नहीं की थी , परन्तु क्रिकेट जगत में माना जा रहा था कि शायद इस साल श्रीलंका अपनी घरेलू लीग का आयोजन नहीं कर पायेगा।  इसकी सब से बड़ी वजह थी इंटरनेशनल खिलाड़ियों का न शामिल होना।  

किसी भी लीग को सफल बनाने के लिए इंटरनेशनल खिलाड़ियों की भागेदारी आवशयक है।  इसी बीच में भारतीय क्रिकेट बोर्ड की तरफ से आईपीएल 2020  की घोषणा ने श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड की मुश्किलें और बढ़ा दी।  शायद एलपीएल मैनेजमेंट ने ठान लिया है कि वो इसी साल लीग की शुरुवात करेंगे।  काफी मुश्किलों के बाद अब ये तय हो चूका है कि एलपीएल का पहला सीजन मध्य नवंबर में आयोजित किया जायेगा।  एलपीएल मैनेजमेंट ने कल पहले सीजन के आयोजन की आधिकारिक घोषणा कर दी है।  14  नवंबर से 6  दिसंबर तक एलपीएल की कुल पांच टीमें 23  मैच खेलेंगी।  

ख़ास बात ये है कि एलपीएल ने अपनी टीम्स के नाम आईपीएल की तर्ज पर रखे हैं।  कोलंबो सुपर किंग्स, गाले लायंस, कैंडी रॉयल्स, जाफना सनराइजर्स और दांबुला कैपिटल्स नाम से पांच टीम्स इस टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगी।  लंका प्रीमियर लीग में परवीन कुमार और मुनाफ पटेल की भागेदारी भी तय हो चुकी है।  गौरतलब है कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड अपने किसी खिलाड़ी को विदेशी लीग खेलने की इजाजत नहीं देता।  परन्तु जो खिलाड़ी भारतीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले चूका है , उसे बीसीसीआई किसी भी अन्य देश की लीग में खेलने से नहीं रोक सकती।  

37  साल के गेंदबाज मुनाफ पटेल ने 2018  में ही भारतीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था।  संन्यास उपरांत पटेल यूएई में टी 10  लीग भी खेल चुके हैं।  भारतीय क्रिकेट में मुनाफ ने 3 टेस्ट, 70 वनडे और 3 टी-20 खेले हैं। मुनाफ और परवीन के इलावा क्रिस गेल, डैरन सैमी, शाहिद अफरीदी और शाकिब अल हसन भी एलपीएल में खेलते हुए नजर आ सकते हैं।  हालाँकि अभी तक किसी भी खिलाड़ी की बोली लगाकर उन्हें ख़रीदा नहीं गया है।  एलपीएल ने बोली लगाने का आयोजन अक्टूबर में किया है।  एलपीएल के ओर्गनइजेरस  ने लीजेंड प्लेयर्स के लिए 45  लाख की प्राइस मनी की घोषणा की है।  टूर्नामेंट के टॉप प्लयेर्स के लिए ये राशि 30  से 38  लाख के बीच हो सकती है।  जूनियर्स प्लेयर्स का कैप प्राइस आठ से तीस लाख का तय किया गया है।  इसके अलावा विदेशी खिलाडियों को उनके कॅरिअर के हिसाब से आठ से 45  लाख रूपये के बिच ख़रीदा जाएगा।    

ऐसा प्रतीत होता है कि एलपीएल ने टूर्नमेंट की पूरी योजना आईपीएल को देखते हुए ही बनाई है।  आईपीएल की तर्ज पर ही एलपीएल में भी सिर्फ चार इंटरनेशनल खिलाड़ी ही प्लेइंग 11  में शामिल किये जा सकेंगे।  परन्तु हर एक फ्रेंचाइजी अपनी टीम में छह इंटरनेशनल खिलाड़ी रख सकते हैं।   गौरतलब है कि कई इंटरनेशनल खिलाड़ी इस समय आईपीएल 2020  मेंहिस्सा ले रहे हैं और यदि उन्हें एलपीएल के लिए ख़रीदा  जाता है तो उन्हें यूएई से सीधा श्रीलंका जाना पड़ेगा।  ऐसे में खिलाड़ियों को एक बार फिर से क्वारंटीन होना पड़ेगा।  एलपीएल के ओर्गनइजेरस ने श्रीलंका की सरकार से क्वारंटीन नियमो में छूट की मांग की थी।  परन्तु लंका सरकार की तरफ से अभी तक छूट का अप्रूवल नहीं मिला है। ओर्गनइजेरस  ने क्वारंटीन के दिनों में सात दिन की छूट की मांग की है।  सरकार ने बाहरी  देश से आने वालो के लिए चौदह दिन क्वारंटीन का नियम बनाया है।  

क्रिकेट प्रेमियों के लिए शायद अच्छे दिन आने वाले हैं।  गौरतलब है कि कुछ दिनों में ही आईपीएल शुरू होने वाला है।  उसके उपरांत तुरंत एलपीएल का आयोजन किया जायेगा और दूसरी तरफ इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच भी वन डे और टेस्ट सीरीज की घोषणा हो चुकी है।  

क्रिकेट की दुनिया से हमेशा जुड़े रहने के लिए तुरंत लाइक और सब्सक्राइब करें हमारा पेज!